होम Editorial विजयादशमी: रावण को इन जगहों पर जलाया नहीं, बल्कि पूजा जाता है

विजयादशमी: रावण को इन जगहों पर जलाया नहीं, बल्कि पूजा जाता है

शेयर करें

 नई दिल्ली। विजयादशमी के दिन पूरे देश में रावण का दहन किया जाता है, लेकिन देश की कुछ जगह ऐसी हैं जहां दशहरा के दिन रावण दहन करने के बजाए रावण की पूजा की जाती है। ऐसा होने के पीछे कई मान्यताएं और तथ्य प्रचलित हैं।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की हवा हुई जहरीली, लागू हो सकता है इमरजेंसी प्लान

आइए जानें, देश की उन्हीं जगहों के बारे में जहां रावण का पूजन किया जाता है…

  • मंदसौर, मध्यप्रदेश- कहा जाता है कि मंदसौर का असली नाम दशपुर था और यह रावण की पत्नी मंदोदरी का मायका था। ऐसे में मंदसौर रावण का ससुराल हुआ। इसलिए यहां दामाद के सम्मान की परंपरा के कारण रावण के पुतले का दहन करने की बजाय उसकी पूजा की जाती है।
  • कनार्टक- कनार्टक के कोलार जिले में भी रावण की पूजा की जाती है। यहां की धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, रावण भगवान शिव का भक्त था, जिस कारण यहां के लोग रावण की पूजा करते हैं। इसके अलावा कर्नाटक के मंडया जिले के मालवली नामक स्थान पर रावण का मंदिर बना हुआ है, जहां लोग उसे महान शिव भक्त के रूप में पूजते हैं।
  • जोधपुर, राजस्थान- राजस्थान के जोधपुर में रावण का मंदिर है। यहां के कुछ समाज विशेष के लोग रावण का पूजन करते हैं और खुद को रावण का वंशज मानते हैं। यही कारण है कि यहां के लोग दशहरा के अवसर पर रावण का दहन करने के बजाए रावण की पूजा करते हैं।
  • बैजनाथ, हिमाचल प्रदेश- कांगड़ा जिले के इस कस्बे में भी रावण की पूजा की जाती है। मान्यता है कि रावण ने यहां पर भगवान शिव की तपस्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उसे मोक्ष का वरदान दिया था। यहां के लोगों की ये भी मान्यता है कि अगर उन्होंने रावण का दहन किया तो उनकी मौत हो सकती है। इस भय के कारण भी लोग रावण के दहन नहीं करते हैं बल्कि पूजा करते हैं।

इसे भी पढ़ें: सबरीमाला मामला: नहीं मिली महिलाओं को मंदिर में एंट्री, कई जगह लगी धारा 144

Loading...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें