होम News districts बिहार में शराबबंदी कानून के तहत पहली बड़ी सजा, दो लोगों को...

बिहार में शराबबंदी कानून के तहत पहली बड़ी सजा, दो लोगों को 10-10 साल की जेल

शेयर करें
बिहार
file photo

पटना: बिहार में पहली बार शराबबंदी कानून के तहत किसी अभियुक्त को बड़ी सजा हुई है। पटना जिले के स्पेशल कोर्ट ने हमीदा खातून और रामचन्द्र सिंह को 10-10 साल की कैद और एक-एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। नये शराबबंदी कानून की धारा 30 के तहत अदालत ने उन्हें ये सजा सुनाई है।

यह भी पढ़ें-IPL: रोमांचक मुकाबले में दिल्ली ने चेन्नई को 34 रनों से हराया

स्पेशल एक्साइज जज रमेश चंद्र मालवीय की अदालत ने नये शराबबंदी कानून के तहत यह सजा सुनायी। हमीदा खातून और रामचंद्र सिंह को 2016 में पटना के कंकड़बाग थाने की पीसी कॉलोनी से सेक्स रैकेट और शराबबंदी कानून के तहत गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में पांच लोगों को अभियुक्त बनाया गया था, जिनमें से दो अभियुक्त दीपक कुमार और प्रियंका सिंह अब भी फरार हैं। प्रियंका सिंह पश्चिम बंगाल की रहनेवाली बतायी जाती है। इसके अलावा मकान मालिक के खिलाफ भी जांच जारी है। अभियुक्त हमीदा खातून व रामचंद्र सिंह का मामला अलग कर सुनवाई की गयी। गवाहों को सुनने के बाद इनके ऊपर लगाये गये आरोप को सही पाते हुए दोषी करार दिया गया।

यह भी पढ़ें-राजधानी पटना में जल्द दौड़ेगी मेट्रो, अंतिम रूप देने में जुटी सरकार

बताते चले कि इससे पहले भी जुलाई 2017 में बिहार में शराबबंदी कानून लागू होने के बाद पहली बार ऐसी सजा का ऐलान किया गया था, जिसमें नये उत्पाद कानून के तहत जहानाबाद जिला अदालत ने दो सगे भाइयों को पांच-पांच साल कैद और एक-एक लाख रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई थी। 29 मई, 2017 को उत्पाद विभाग की टीम ने दोनों भाइयों को शहर के पूर्वी उंटा मोहल्ले से गिरफ्तार किया था। मेडिकल जांच में दोनों के शराब पीने की पुष्टि हुई थी।

यह भी पढ़ें-शौचालय के लिए मंगलसूत्र गिरवी, बिहार की एक सच्ची कथा

गौरतलब है कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी अप्रैल 2016 से ही लागू हो चुकी है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें