होम Mukh Samachar तीन राज्यों में बीजेपी की हार पर प्रशांत किशोर ने कही ये...

तीन राज्यों में बीजेपी की हार पर प्रशांत किशोर ने कही ये बात

 जेडीयू नेता प्रशांत किशोर ने शुक्रवार को पीएम मोदी को देश का लोकप्रिय नेता बताया। साथ ही उन्होंने हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव का ज्रिक भी किया।

शेयर करें

नई दिल्ली। जेडीयू नेता प्रशांत किशोर ने शुक्रवार को पीएम मोदी को देश का लोकप्रिय नेता बताया। साथ ही उन्होंने हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव का ज्रिक भी किया। उन्होंने कहा तीन राज्यों में हार बीजेपी का कुछ नहीं बिगाड़ सकती। इससे बीजेपी को कोई खतरा नहीं है। प्रशांत ने कहा कोई कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन 2019 में तो बीजेपी ही राज करेगी।

इसे भी पढ़ें: अशोक गहलोत ने तीसरी बार संभाली राजस्थान की कमान, सचिन बने डीप्टी सीएम

बिहार में जेडीयू और बीजेपी गठबंधन की सरकार है। किशोर भाजपा की राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हुई हार को लेकर टिप्पणी कर रहे थे। इन चुनावों को साल 2019 में होने वाले आम चुनावों का सेमीफाइनल कहा जा रहा था। राजनीतिक गलियारों से दखल रखने वाले लोगों का मानना है कि भाजपा इन चुनावों के लिए अब राममंदिर को प्रमुख मुद्दा बनाएगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी कह चुकी है कि राम मंदिर निर्माण का मुद्दा राजनीतिक नहीं है बल्कि यह आस्था का बात की है।

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ के बिहार दौरे पर तेजस्वी यादव ने किया पलटवार

किशोर ने कहा, आज भले ही भाजपा उतनी ताकतवर नहीं दिख रही जितनी वह 2014 के चुनावों में थी लेकिन वह आज उससे कहीं अधिक ताकतवर है, जितनी वह 2004 में थी, जब उसने सत्ता गंवाई थी, और 2009 में जब सत्ता पाने में (कांग्रेस से) हार गई। बता दें कि किशोर सितंबर में जेडीयू में शामिल हुए थे और एक ही महीने में उन्हें पार्टी के उपाध्यक्ष के ओहदे से नवाजा गया था।

इसे भी पढ़ें: पहाड़ी राज्यों में जमकर हो रही है बर्फबारी, मैदानी इलाकों में भी गिरा तापमान

प्रशांत किशोर ने कहा, मैं समझता हूं कि अभी भी नरेंद्र मोदी के ही नेतृत्व में चुनाव होगा। हम लोग गठबंधन में हैं और कई मुद्दों में हम लोगों में समानता है। किशोर ने कहा कि हमारा उद्देश्य युवाओं को राजनीति के लिए प्ररित करना है। उन्होने राम मंदिर मुद्दे को इनकार करते हुए कहा कि मुझे इसकी समझ नहीं है। उन्होंने कहा कि 2014 चुनाव में मैं जुड़ा हुआ था, उसमें राम मंदिर मुद्दा नहीं था। उस समय बिना राम मंदिर के मुद्दे के बीजेपी को बड़ा बहुमत मिला था।

Loading...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें