मोदी कैबिनेट में बड़ा फेरबदल, रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार

    शेयर करें
    नरेन्द्र मोदी
    file photo

    केंद्र की मोदी सरकार ने अपने मंत्रालय में बड़ा बदलाव किया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली की खराब स्वास्थ्य की वजह से उनके मंत्रालय को रेल मंत्री पीयूष गोयल को सौंपा गया है। पीयूष गोयल अब रेल मंत्रालय के साथ-साथ वित्त मंत्रालय भी संभालेंगे। बता दे कि वित्त मंत्री अरुण जेटली पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे हैं। किडनी में खराबी होने के कारण वे डायलिसिस पर थे। सोमवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में उनकी किडनी ट्रांसप्लांट की गई। जेटली को रविवार को एम्स में भर्ती कराया गया था। जिसके कारण उन्हें काम करने में दिक्कत हो रही थी। इसी के चलते केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उन्हें कुछ दिनों के लिए आराम दिया है।

    यह भी पढ़ें-मुंगेर में है दुनिया का पहला योग विश्वविद्यालय, 1964 में हुई स्थापना

    मंत्रिमंडल के इस फेरबदल में स्मृति ईरानी का कद छोटा किया गया है। उनसे सूचना प्रसारण मंत्रालय वापस लेकर राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर को सूचना प्रसारण मंत्रालय स्वतंत्र प्रभार दे दिया गया है। राठौर अब पूरी तरह से अपने मंत्रालय को देखेंगे। ईरानी अब सिर्फ कपड़ा मंत्रालय ही देखेंगी। गौरतलब है कि यह दूसरी बार है जब स्मृति ईरानी की जिम्मेदारियों में बदलाव किया गया है। इससे पहले उनसे मानव विकास मंत्रालय छीना गया था।
    इसके अलावा केंद्रीय मंत्री एस एस अहलूवालिया को पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय से मुक्त कर उन्हें इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। अभी तक यह मंत्रालय अल्फ़ोंस कन्ननधनम के पास था। अल्फोंस अब केवल पर्यटन मंत्रालय का ही काम देखेंगे।

    यह भी पढ़ें-VIDEO: इस भोजपुरी अभिनेत्री का डांस देख आपको आ जाएगी सपना चौधरी की याद

    राष्ट्रपति भवन द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि राठौर को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है। इसके अलावा एस एस अहलूवालिया से पेयजल एवं स्वच्छता राज्य मंत्री का प्रभार लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी विभाग का प्रभार सौंपा गया है। अल्फोंस कन्नथनम से इलेक्ट्रॉनिक और आईटी राज्य मंत्री का प्रभार ले लिया गया है। वह पर्यटन राज्य मंत्री बने रहेंगे।
    बता दे कि पिछले साल जुलाई में एम वेंकैया नायडू ने राजग की ओर से उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद उन्होंने सूचना एवं प्रसारण मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद ईरानी को मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया था।

    Loading...

    कोई जवाब दें

    कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
    कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें