स्वाद का राजा! बिहार का मशहूर लिट्टी-चोखा

लिट्टी-चोखा
  • May 25, 2017
Share:

बिहार में यू तो कई जाकेदार पकवान मशहूर हैं, लेकिन बिहार का नाम आते ही लोगों के जुबां पर लिट्टी-चोखा का नाम सबसे पहले याद आता हैं। लिट्टी-चोखा बिहार का एक पारम्परिक भोजन है। लिट्टी ग्रेहूं के आटे को गोलाकार आकार में बना कर उसके अंदर चने की सत्तू को भर कर बनाया जाता हैं। एक खास बात यह भी है कि लिट्टी-चोखा के साथ बैगन का चोखे भी खाया जाता हैं, जो लिट्टी के स्वाद में चार चांद लगाता है। स्वास्थ के दृष्टिकोण से भी यह काफी लाभदायक हैं आईए जानते है  इस डिश को कैसे बनाई जाती है।

लिट्टी बनाने की विधि

सबसे पहले एक बर्तन में अजवायन और नमक ,मिर्च के डंठल तोड़िये, धोइये और इनहें बारीक कतर लीजिये।  हरा धनियां को साफ कीजिये, धोइये बारीक कतर लीजिये। सत्तू को किसी बर्तन में निकालिये, कतरे हुये अदरक, हरी मिर्च, धनियां, नीबू का रस, नमक, काला नमक, जीरा,सरसों का तेल डाल कर अच्छी तरह मिला लें। फिर  ग्रेहू के आटे को पानी की सहायता से गुथ कर गोलाकार आकार का बनाते हुए उसमें सत्तू की स्टफिंग को भर दें और अपने हाथ से गोलाकार बना कर बर्तन में रखें। उसके बाद गाय के गोबर से तैयार गोईठे को जला कर लिट्टी को पका लें और पलट-पलट कर धीमें आंच पर ब्राउन होने तक सेकिये। यदि आप के पासगोईठा ना हो तो रसोई गैस पर लोहे के जार के सहारे आप लिट्टी को पका सकते हैं।

 बैगन और टमाटर का चोखा बनाने की विधि

बैगन और टमाटर धोइये और आग पर अच्छी तरह से पका लिजिए। फिर इसे ठंडा होने के लिए थोड़ी देर छोड़ दीजिए। छिलका उतार लीजिये, किसी प्याले में रख कर चमचे से मैस कीजिये, कतरे हुये मसाले और नमक, तेल डाल कर अच्छी तरह मिलाइये। लीजिये बैगन का लजीज चोखा तैयार है। अगर आप लहसुन और प्याज पसन्द करते है तब 5-6 लहसन की कली छीलिये बारीक कतरिये और एक प्याज छीलिये, बारीक कतरिये इन्हें भी इस बैगन में मिला सकते हैं।

आलू का चोखा
उबले आलू  छील कर बारीक तोड़ लीजिये, कतरे हुये अदरक, हरी मिर्च, हरे धनिये, लाल मिर्च, नमक मिलाइये, आलू का चोखा तैयार है।

परोसने का तरीका

गर्म- गर्म लिट्टी को साफ कर उसे घी में डूबो कर बैगन,टमाटर और आलू के चौखे का साथ परोसिए। यकीनन आप और आपके घर आए अतिथि इस स्वाद को अरसे तक याद रखेंगे।

Tags


Comments

Leave A comment