Mukh Samachar आज ही निपटा लें बैंक के जरूरी काम, कल से 5 दिन...

आज ही निपटा लें बैंक के जरूरी काम, कल से 5 दिन के लिए बंद रहेंगे बैंक

क्रिसमस और नए साल का त्योहार आने वाला है। जिसकी तैयारियां जोरो-शोरो से शुरू हो गई है। इन त्योहारों को मनाने के लिए आपके पास कई प्लान भी होंगे।

sbi

नई दिल्ली। क्रिसमस और नए साल का त्योहार आने वाला है। जिसकी तैयारियां जोरो-शोरो से शुरू हो गई है। इन त्योहारों को मनाने के लिए आपके पास कई प्लान भी होंगे। लेकिन इन प्लान पर बैंकों की बंदी असर डाल सकती है। जी हां अगर आपको इस बात की खबर नहीं है तो हम आपको बता दें कि, 21 दिसंबर से 26 दिसंबर के बीच 5 दिन तक सरकारी बैंक बंद रहेंगे। इसका मतलब यह हुआ कि, आने वाले दिनों में लोगों को एटीएम में पैसों की किल्लत हो सकती है।

इसे भी पढ़ें:  बिहार-यूपी वाले कमेंट पर घिरे म.प्र के सीएम कमलनाथ, दो जिलों में दर्ज हुई शिकायत

क्‍यों बंद हैं बैंक

कल यानी 21 दिसंबर और 26 दिसंबर को सरकारी बैंक कर्मचारियों की हड़ताल है। इसके अलावा सरकारी और प्राइवेट बैंक 22 दिसंबर और 23 दिसंबर को चौथे शनिवार और रविवार के कारण बंद रहेंगे। वहीं 25 दिसंबर को क्रिसमस की छुट्टी की वजह से बैंक बंद रहेंगे। हालांकि इस बीच 24 दिसंबर को बैंकों में कामकाज होगा। बता दें कि बैंक अधिकारिकों के एक यूनियन ने 21 दिसंबर को हड़ताल का ऐलान किया है। जबकि ग्यारहवीं द्विपक्षीय वेतन संशोधन वार्ता के लिए बिना शर्त आदेश पत्र जारी करने की मांग को लेकर यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) 26 दिसंबर को हड़ताल करेगी।

इसे भी पढ़ें: जॉनसन एंड जॉनसन बेबी पाउडर के सैंपल जब्त, बच्चों को है कैंसर का खतरा

क्‍यों नाराज हैं कर्मचारी

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कंफेडरेशन (AIOBC) के सहायक महासचिव सजय दास ने कहा, “हमने 2017 के मई में प्रस्तुत मांग-पत्र के आधार पर 11वीं द्विपक्षीय वेतन संशोधन वार्ता के लिए पूर्ण और बिना शर्त आदेश पत्र जारी करने की मांग को लेकर 21 दिसंबर को हड़ताल का आह्वान किया है। वेतन संशोधन पर चर्चा शुरू होने के 19 महीनों बाद भी अबतक कोई प्रगति नहीं हुई है।” उनके मुताबिक, यूनियन के 3.2 लाख से अधिक अधिकारी इस हड़ताल में शामिल होंगे। यूनियन की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष शुभज्योति बंदोपाध्याय ने कहा कि यह हड़ताल तीन सरकारी बैंकों -बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक के विलय के खिलाफ भी की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ के बयान से बढ़ा बिहार की राजनीति का तापमान

Loading...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहां दर्ज करें